WITH BOUNTIFUL BLESSINGS FROM LORD BALAJI, THIS BLOG CARRIES NEWS THAT CONCERNS CLASS 1 PENSIONERS OF LIC. WE ADD A LITTLE PEPPER , A LITTLE MINT OR MIRCHI HERE AND THERE TO HELP US REJUVENATE , RECONCILE AND RELAX, AND LEARN TO LIVE IN PEACE

Thursday, March 30, 2017

MEMORANDUM TO CHAIRMAN BY G N SRIDHARAN TODAY

 DEAR ALL LIC PENSIONERS & FAMILY PENSIONERS


MEMORANDUM


MEMORANDUM TO CHAIRMAN 

TODAY 

BY 

G N SRIDHARAN.

CLICK HERE 

DD News Live 24X7

Mahabharata- Story .



 Who is the one who leads among the Panch Pandavas !!

They go in search of water, and

we in search of.......

justice..

Tuesday, March 28, 2017

JEEVAN PRAMAN FOR EXISTING PENSIONERS.

Southern Zonal Office Chennai

writes to all pensioners

on

DIGITAL LIFE CERTIFICATE...JEEVAN PRAMAN

IN PURSUANCE OF THE GOI INITIATION OF IMPLEMENTING THE PROCEDURE OF AADHAR BASED BIOMETRIC DIGITAL LIFE CERTIFICATE JEEVAN PRAMAN

FOR PENSIONERS /FAMILY PENSIONERS ,

IT IS PROPOSED TO INTRODUCE THE SYSTEM FOR OBTAINING EXISTENCE CERTIFICATE FOR PENSION DISBURSEMENT

THIS PROPOSED SYSTEM WILL BE AN ADDITIONAL OPTION AND THE CURRENT SYSTEM OF PHYSICAL SUBMISSION OF EXISTENCE CERTIFICATE WILL CONTINUE TO BE AVAILABLE. 

AS THE PROPOSED SYSTEM ENVISAGES BIO METRIC AUTHENTICATION, WE REQUEST TO SEND US A COPY OF YOUR AADHAR CARD ALONG WITH DULY FILLED ENCLOSED FORMAT FOR UPDATION OF OUR PENSION DATA BASE WHICH WILL ENABLE THE ROLL OUT OF JEEVAN PRAMAN.

SD.
MANAGER OS /
SZO.

ENCLOSED FORMAT INCLUDES A DECLARATION BY THE PENSIONER.

"I SUBMIT MY ABOVE AADHAR NUMBER AND VOLUNTARILY GIVE MY CONSENT TO SEED MY AADHAAR NUMBER ISSUED BY UIDAI IN MY NAME WITH MY AFORESAID PENSION ACCOUNTS. USE MY AADHAR DETAILS TO AUTHENTICATE ME FROM UIDAI. I ALSO GIVE MY CONSENT O LIC FOR AUTHENTICATION WITH UIDAI. USE MY EMAIL AND MOBILE NUMBER FOR SENDING ALERTS TO ME. "

*************************************************************************




CHIRANTAN 2017 LIVE PROGRAMME


Monday, March 27, 2017

10 Important Changes in Income Tax from 1.4.2017

During the Union Budget 2017-18, Finance Minister Arun Jaitley had proposed several changes to personal income tax and also introduced some amendments in the Finance Bill. Last Wednesday, the Lok Sabha completed the budgetary exercise for the next financial year, and cleared the Finance Bill. Also, the amendments introduced in the Finance Bill was also passed by the Lok Sabha.
Beginning 1 April, 2017, here are the 10 important income-tax changes that tax payers need to take note of:
1) For employees in the yearly income group between Rs 2.5 and Rs 5 lakh, tax rate has been halved to 5 percent from the existing 10 percent, helping them save tax of up to Rs 12,500 a year, according to The Economic Times. A tax saving of Rs 14,806 a year, including surcharge and cess, will be available for income above Rs 1 crore a year. And for people whose taxable income is between Rs 5 lakh and Rs 50 lakh, tax savings amount to Rs 12,900.
Finance Minister Arun Jaitley. PTI file photo.
Finance Minister Arun Jaitley. PTI file photo.
3) A simple one page form will be introduced for filing tax returns to tax payers with income up to Rs 5 lakh and excluding any business income. The I-T department will not scrutinize those who are filing their tax returns for the first time in this category.
4) For investment under Rajiv Gandhi Equity Saving Scheme, no deduction will be available from the assessment year 2018-19, The previous UPA government had introduced this tax-saving scheme in the Union Budget for financial year 2012-13 with an aim to encourage first-time investors in the securities market.
5) Long-term holding period for an immovable property has been reduced to two years from three earlier. Hence, the new law coming in place will ensure that an immovable property held over for two years will be taxed at a reduced rate of 20 percent, with various exemptions eligible on reinvestment, the ET report said.
6) Tax exemption on reinvestment of capital gains in notified redeemable bonds will be available for individuals in addition to investment in NHAI and REC bonds.
7) For rental payments in excess of Rs 50,000 a month, individuals will have to deduct a five percent TDS (tax deducted at source). According to tax experts, this move will enable the government to bring people with large rental income into the tax net. This will come into effect from 1 June, 2017.
8) Delay in filing tax return for 2017-18 will attract penalty of Rs 5,000, if filed by 31 December, 2018, and the penalty will be higher if filed beyond this date. However, for small tax payers with income up to Rs five lakh, the penalty has been restricted to Rs 1,000.
9) The government has also made Aadhaar compulsory while applying for PAN and filing income tax returns from 1 July. In fact, the Centre in a bid to curb black money from the system has limited cash transactions at Rs two lakh against the originally proposed cap at Rs three lakh.
10) Individuals will not have to pay any tax in case of partial withdrawals from National Pension System (NPS). The proposed changes allows NPS subscribers to withdraw 25 percent of their contribution to the corpus for emergencies before retirement. Remember that withdrawal of 40 percent of the corpus is tax-free on retirement, the NDTVreport says.
Apart from these changes to income tax rates, individuals will also have to brace for higher insurance for cars, motorcycles and health insurance from 1 April, as the regulator IRDAI has given its nod for insurers to revise commission of the agents. The change in premium after modification will be limited to +/- 5 per cent of the existing rates.
The increase will be in addition to the enhanced third party motor insurance rates, which too will come into effect from April.
With PTI inputs
Courtesy: FIRSTPOST.
Published Date: Mar 27, 2017 01:27 pm | Updated Date: Mar 27, 2017 01:31 pm

Sunday, March 26, 2017

G N S informs

I have been receiving enquiries on the report of the Court having called for LIC’s rejoinder to a particular written submission. I have responded to them as follows:

1)     The Court, in their last proceedings, had allowed (all) parties to file written submission within 10 days, and LIC also have the right to do so.

2)    Our counsel confirms that our written submission had duly been provided to LIC’s counsel.

3)    To our knowledge as well based on info from our Counsel, there is neither a procedure to file a rejoinder to a written submission, nor there is something unique as reported; our Counsel prefers not to comment on the reported info.

4)    The rest is left to our members to conclude

5)    As for the statement that the 'judge is writing the judgement' we are verifying the matter, and let our members know the progress as soon as we get to know.

With Greetings,

GNSridharan 

Gen.Secy Fedn of Retd. LIC class1 officers' Assns

PM Modi's Mann Ki Baat, March 2017

SUNDARA KANDAM (SRI M S RAMA RAO) WITH TELUGU LYRICS PART 1

Saturday, March 25, 2017

Who Am I ?




Swami Sarvapriyananda is a dynamic young monk of the Ramakrishna Math. He
joined the Ramakrishna Order at Ramakrishna Mission Vidyapith, Deoghar,
Jharkhand in 1994. Since then he has served the Ramakrishna Mission in
various capacities including Vice Principal of the Deoghar Vidyapith
Higher Secondary School, Principal of the Sikshana Mandira Teachers'
Training College at Belur Math, and as the first Registrar of the
Ramakrishna Mission Vivekananda University at Belur Math. At present he is
an acharya at the monastic probationers training centre at Belur Math.

He holds a degree in business management from the Xavier Institute of
Management (XIMB) Bhubaneshwar. His interests are in the fields of
spirituality, philosophy, management science and education.

Join us on Facebook: https://www.facebook.com/vsiitk

KEEP YOUR HEART IN THE RIGHT PLACE.

If you win, don't lose your head.

 If you lose, don't lose your heart. 

Keep your heart in the right place, your mind in the right place and be happy.

Gurudev Sri Sri Ravi Shankar
THE ART OF LIVING BHAJAN.

SUNDARA KANDAM UPANYASAM





ASADHYA SADHAKA SWAMIN, ASADHYA TAVA KIM VADHA 
SRI RAMA DHOOTA KRIPA SINDHOR MATH KARYAM SADHAKA PRABHO.

HANUMAN FLYING OVER LANKA. க்கான பட முடிவு
SRI RAMA DHOOTHAM 

SIRASA NAMAAMI.

Friday, March 24, 2017

Nasa LIVE stream - Earth From Space LIVE Feed | Incredible ISS live streaming...

If there be no DEATH, then there will be no RELIGION in the world too...Aristotle

“मृत्यु और धर्म” – ओशो
अरस्‍तु (Aristotle) ने कहा है कि—यदि मृत्यु न हो, तो जगत में कोई धर्म भी न हो। ठीक ही है उसकी बात, क्योंकि अगर मृत्यु न हो, तो जगत में कोई जीवन भी नहीं हो सकता ।
मृत्यु केवल मनुष्य के लिए है। इसे थोड़ा समझ लें। पशु भी मरते है, पौधे भी मरते है, लेकिन मृत्यु मानवीय घटना है। पौधे मरते हैं, लेकिन उन्हें अपनी मृत्यु का कोई बोध नहीं है। पशु भी मरते हैं, लेकिन अपनी मृत्यु के संबंध में चिंतन करने में असमर्थ है।
तो मृत्यु केवल मनुष्य की ही होती है, क्योंकि मनुष्य जानकर मरता है जानते हुए मरता है। मृत्यु निश्‍चित है, ऐसा बोध मनुष्य को है। चाहे मनुष्य कितना ही भुलाने की कोशिश करे, चाहे कितना ही अपने को छिपाये, पलायन करे, चाहे कितने ही आयोजन करे सुरक्षा के, भुलावे के; लेकिन हृदय की गहराई में मनुष्य जानता है कि मृत्यु से बचने का कोई उपाय नहीं है।
मृत्यु के संबंध में पहली बात तो यह खयाल में ले लेनी चाहिए कि मनुष्य अकेला प्राणी है जो मरता है। मरते तो पौधे और पशु भी है, लेकिन उनके मरने का भी बोध मनुष्य को होता है, उन्हें नहीं होता। उनके लिए मृत्यु एक अचेतन घटना है। और इसलिए पौधे और पशु धर्म को जन्म देने में असमर्थ हैं।
जैसे ही मृत्यु चेतन बनती है, वैसे ही धर्म का जन्म होता है। जैसे ही यह प्रतीति साफ हो जाती है कि मृत्यु निश्‍चित है, वैसे ही जीवन का सारा अर्थ बदल जाता है; क्योंकि अगर मृत्यु निश्‍चित है तो फिर जीवन की जिन क्षुद्रताओं में हम जीते हैं उनका सारा अर्थ खो जाता है।
मृत्यु के संबंध में दूसरी बात ध्यान में ले लेनी जरूरी है कि वह निश्‍चित है। निश्‍चित का मतलब यह नहीं कि आपकी तारीख, बड़ी निश्‍चित है। निश्‍चित का मतलब यह कि मृत्यु की घटना निश्‍चित है। होगी ही। लेकिन यह भी अगर बिलकुल साफ हो जाये कि मृत्यु निश्‍चित है, होगी ही। तो भी आदमी निश्‍चित हो सकता है। जो भी निश्‍चित हो जाता है, उसके बाबत हम निश्‍चित हो जाते हैं, चिंता मिट जाती है।
मृत्यु के संबंध में तीसरी बात महत्वपूर्ण है, और वह यह है कि मृत्यु निश्‍चित है, लेकिन एक अर्थ में अनिश्‍चित भी है। होगी तो, लेकिन कब होगी, इसका कोई भी पता नहीं। होना निश्‍चित है, लेकिन कब होगी, इसका कोई भी पता नहीं है। निश्‍चित है और अनिश्‍चित भी। होगी भी, लेकिन तय नहीं है, कब होगी। इससे चिंता पैदा होती है। जो बात होनेवाली है, और फिर भी पता न चलता हो, कब होगी; अगले क्षण हो सकती है, और वर्षों भी टल सकती है। विज्ञान की चेष्टा जारी रही तो शायद सदियां भी टल सकती है। इससे चिंता पैदा होती है।
कीर्कगार्ड ने कहा है, मनुष्य की चिंता तभी पैदा होती है जब एक अर्थ में कोई बात निश्‍चित भी होती है और दूसरे अर्थ में निश्‍चित नहीं भी होती है। तब उन दोनों के बीच में मनुष्य ओचता में पड़ जाते हैं।
मृत्यु की चिंता से ही धर्म का जन्म हुआ है। लेकिन मृत्यु की चिंता हमें बहुत सालती नहीं है। हमने उपाय कर रखे हैं—जैसे रेलगाड़ी में दो डिब्बों के बीच में बफर होते हैं, उन बफर की वजह से गाड़ी में कितना ही धक्का लगे, डिब्बे के भीतर लोगों को उतना धक्का नहीं लगता। बफर धक्के को झेल लेता है। कार में स्विंग होते हैं, रास्ते के गड्डों को स्विंग झेल लेते हैं। अंदर बैठे हुए आदमी को पता नहीं चलता।
आदमी ने अपने मन में भी बफर लगा रखे हैं जिनकी वजह से वह मृत्यु का जो धक्का अनुभव होना चाहिए, उतना अनुभव नहीं हो पाता। मृत्यु और आदमी के बीच में हमने बफर का इंतजाम कर रखा है। वे बफर बड़े अदभुत है, उन्हें समझ लें तो फिर मृत्यु में प्रवेश हो सके, और यह सूत्र मृत्यु के संबंध में है।
मृत्यु से ही धर्म की शुरुआत होती है, इसलिए यह सूत्र मृत्यु के संबंध में है।
कभी आपने खयाल न किया हो, जब भी हम कहते हैं, मृत्यु निश्‍चित है तो हमारे मन में लगता है, प्रत्येक को मरना पड़ेगा। लेकिन उस प्रत्येक में आप सम्मिलित नहीं होते—यह बफर है, जब भी हम कहते हैं, हर एक को मरना होगा, तब भी हम बाहर होते है, संख्या के भीतर नहीं होते। हम गिननेवाले होते हैं, मरनेवाले कोई और होते हैं। हम जाननेवाले होते हैं, मरनेवाले कोई और होते है। जब भी मैं कहता हूं मृत्यु निश्‍चित है, तब भी ऐसा नहीं लगता कि मैं मरूंगा। ऐसा लगता है, हर कोई मरेगा एनानीमस, उसका कोई काम नहीं है; हर आदमी को मरना पड़ेगा। लेकिन मैं उसमें सम्मिलित नहीं होता हूं। मैं बाहर खड़ा हूं मैं मरते हुए लोगों की कतार देखता हूं। लोगों को मरते हुए देखता हूं जन्मते देखता हूं। मैं गिनती करता रहता है मैं बाहर खड़ा रहता हूं मैं सम्मिलित नहीं होता। जिस दिन मै सम्मिलित हो जाता हूं बफर टूट जाता है।
बुद्ध ने मरे हुए आदमी को देखा और बुद्ध ने पूछा, ‘क्या सभी लोग मर जाते हैं? ‘सारथी ने कहा, ‘सभी लोग मर जाते है।’ बुद्ध ने तत्काल पूछा, ‘क्या मैं भी मरूंगा? ‘हम नहीं पूछते।
बुद्ध की जगह हम होते, इतने से हम तृप्त हो जाते कि सब लोग मर जाते हैं। बात खत्म हो गयी। लेकिन बुद्ध ने तत्काल पूछा ‘क्या मैं भी मर जाऊंगा? ‘
जब तक आप कहते हैं, सब लोग मर जाते हैं, जब तक आप बफर के साथ जी रहे हैं। जिस दिन आप पूछते हैं, क्या मैं भी मर जाऊंगा? यह सवाल महत्वपूर्ण नहीं है कि सब मरेंगे कि नहीं मरेंगे। सब न भी मरते हों, और मैं मरता होऊं, तो भी मृत्यु मेरे लिए उतनी ही महत्वपूर्ण है।
क्या मैं भी मर जाऊंगा? लेकिन यह प्रश्‍न भी दार्शनिक की तरह भी पूछा जा सकता है और धार्मिक की तरह भी पूछा जा सकता है। जब हम दार्शनिक की तरह पूछते है, तब फिर बफर खड़ा हो जाता है। तब हम मृत्यु के संबंध में सोचने लगते है, ‘मैं’ के संबंध में नहीं। जब धार्मिक की तरह पूछते है। तो मृत्यु महत्वपूर्ण नहीं रह जाती, मै महत्वपूर्ण हो जाता हूं।
सारथी ने कहा कि किस मुंह से मैं आपसे कहूं कि आप भी मरेंगे। क्योंकि यह कहना अशुभ है। लेकिन झूठ भी नहीं बोल सकता है मरना तो पड़ेगा ही, आपको भी। तो बुद्ध ने कहा, रथ वापस लौटा लो, क्योंकि मै मर ही गया। जो बात होने ही वाली है वह हो ही गयी। अगर यह निश्‍चित ही है तो तीस, चालीस, पचास साल बाद क्या फर्क पड़ता है! बीच के पचास साल, मृत्यु जब निश्‍चित ही है तो आज हो गयी, वापस लौटा लो।’
वे जाते थे एक युवक महोत्सव में भाग लेने, यूथ फेस्टिवल में भाग लेने। रथ बीच से वापस लौटा लिया। उन्होंने कहा, ‘अब मैं बूढ़ा हो ही गया। अब युवक महोत्सव में भाग लेने का कोई अर्थ न रहा। युवक महोत्सव में तो वे ही लोग भाग ले सकते है, जिन्हें मृत्यु का कोई पता नहीं है। और फिर मैं मर ही गया।’सारथी ने कहा, ‘अभी तो आप जीवित है, मृत्यु तो बहुत दूर है।’यह बफर है। बुद्ध का बफर टूट गया, सारथी का नहीं टूटा। सारथी कहता है कि मृत्यु तो बहुत दूर है—।
हम सभी सोचते है मृत्यु होगी लेकिन सदा बहुत दूर, कभी— ध्यान रहे, आदमी के मन की क्षमता है—जैसे हम एक दीये का प्रकाश लेकर चलें, तो दो, तीन, चार कदम तक प्रकाश पड़ता है ऐसे ही मन की क्षमता है। बहुत दूर रख दें किसी चीज को तो फिर मन की पकड़ के बाहर हो जाता है। मृत्यु को हम सदा बहुत दूर रखते है। उसे पास नहीं रखते। मन की क्षमता बहुत कम है। इतने दूर की बात व्यर्थ हो जाती है। एक सीमा है हमारे चिंतन की। दूर जिसे रख देते हैं, वह बफर बन जाता है।
हम सब सोचते है, मृत्यु तो होगी; लेकिन बूढ़े से बूढ़ा आदमी भी यह नहीं सोचता कि मृत्यु आसन्न है। कोई ऐसा नहीं सोचता कि मृत्यु अभी होगी; सभी सोचते है, कभी होगी। जो भी कहता है, कभी होगी, उसने बफर निर्मित कर लिया। वह मरने के क्षण तक भी सोचता रहेगा कभी.. .कभी, और मृत्यु को दूर हटाता रहेगा। अगर बफर तोड़ना हो तो सोचना होगा, मृत्यु अभी, इसी क्षण हो सकती है।
यह बड़े मजे की बात है कि बच्चा पैदा हुआ और इतना बूढ़ा हो जाता है कि उसी वक्त मर सकता है। हर बच्चा पैदा होते ही काफी का हो जाता है कि उसी वक्त चाहे तो मर सकता है। बूढ़े होने के लिए कोई सत्तर—अस्सी साल रुकने की जरूरत नहीं है। जन्मते ही हम मृत्यु के हकदार हो जाते है। जन्म के क्षण के साथ ही हम मृत्यु में प्रविष्ट हो जाते है।
जन्म के बाद मृत्यु समस्या है और किसी भी क्षण हो सकती है। जो आदमी सोचता है, कभी होगी, वह अधार्मिक बना रहेगा। जो सोचता है, अभी हो सकती है, इसी क्षण हो सकती है, उसके बफर टूट जायेंगे। क्योंकि अगर मृत्यु अभी हो सकती है तो आपकी जिंदगी का पूरा पर्सपेक्टिव, देखने का परिप्रेक्ष्य बदल जायेगा। किसी को गाली देने जा रहे थे, किसी की हत्या करने जा रहे थे, किसी का नुकसान करने जा रहे थे, किसी से झूठ बोलने जा रहे थे, किसी की चोरी कर रहे थे, किसी की बेईमानी कर रहे थे; मृत्यु अभी हो सकती है तो नये ढंग से सोचना पडेगा कि झूठ का कितना मूल्य है अब, बेईमानी का कितना मूल्य है अब। अगर मृत्यु अभी हो सकती है, तो जीवन का पूरा का पूरा ढांचा दूसरा हो जायेगा।
बफर हमने खड़े किये हैं। पहला कि मृत्यु सदा दूसरे की होती है, इट इज आलवेज दी अदर हू डाइज। कभी भी आप नहीं मरते, कोई और मरता है। दूसरा, मृत्यु बहुत दूर है, चिंतनीय नहीं है। लोग कहते हैं, अभी तो जवान हो, अभी धर्म के संबंध में चिंतन की क्या जरूरत है? उनका मतलब आप समझते हैं? वे यह कह रहे हैं, अभी जवान हो, अभी मृत्यु के संबंध में चिंतन की क्या जरूरत है?
धर्म और मृत्यु पर्यायवाची हैं। ऐसा कोई व्यक्ति धार्मिक नहीं हो सकता, जो मृत्यु को प्रत्यक्ष अनुभव न कर रहा हो, और ऐसा कोई व्यक्ति, जो मृत्यु को प्रत्यक्ष अनुभव कर रहा हो, धार्मिक होने से नहीं बच सकता।
तो दूर रखते हैं हम मृत्यु को। फिर अगर मृत्यु न दूर रखी जा सके, और कभी—कभी मृत्यु बहुत निकट आ जाती है, जब आपका कोई निकटजन मरता है तो मृत्यु बहुत निकट आ जाती है। करीब—करीब आपको मोर ही डालती है। कुछ न कुछ तो आपके भीतर भी मर जाता है। क्योंकि हमारा जीवन बडा सामूहिक है। मैं जिसे प्रेम करता हूं उसकी मृत्यु में मैं थोड़ा तो मरूंगा ही। क्योंकि उसके प्रेम ने जितना मुझे जीवन दिया था, वह तो टूट ही जायेगा, उतना हिस्सा तो मेरे भीतर खण्डित हो ही जायेगा, उतना तो भवन गिर ही जायेगा।
आपको खयाल में नहीं है। अगर सारी दुनिया मर जाये और आप अकेले रह जायें तो आप जिंदा नहीं होगे क्योंकि सारी दुनिया ने आपके जीवन को जो दान दिया था वह तिरोहित हो जायेगा। आप प्रेत हो जायेंगे जीते—जीते, भूत—प्रेत की स्थिति हो जायेगी।
तो जब मृत्यु बहुत निकट आ जाती है तो ये बफर काम नहीं करते और धक्का भीतर तक पहुंचता है। तब हमने सिद्धातों के बफर तय किये हैं। तब हम कहते हैं, आत्मा अमर है। ऐसा हमें पता नहीं है। पता हो, तो मृत्यु तिरोहित हो जाती है; लेकिन पता उसी को होता है, जो इस तरह के सिद्धांत बनाकर बफर निर्मित नहीं करता। यह जटिलता है। वही जान पाता है कि आत्मा अमर है, जो मृत्यु का साक्षात्कार करता है। और हम बडे कुशल है, हम मृत्यु का साक्षात्कार न हो, इसलिए आत्मा अमर है ऐसे सिद्धांत को बीच में खडा कर लेते हैं।
यह हमारे मन की समझावन है। यह हम अपने मन को कह रहे हैं कि घबराओ मत, शरीर ही मरता है, आत्मा नहीं मरती; तुम तो रहोगे ही, तुम्हारे मरने का कोई कारण नहीं है। महावीर ने कहा है, बुद्ध ने कहा है, कृष्ण ने कहा है—सबने कहा है कि आत्मा अमर है। बुद्ध कहें, महावीर कहें, कृष्ण कहें, सारी दुनिया कहे, जब तक आप मृत्यु का साक्षात्कार नहीं करते हैं, आत्मा अमर नहीं है। तब तक आपको भली—भांति पता है कि आप मरेंगे, लेकिन धक्के को रोकने के लिए बफर खड़ा कर रहे हैं।
शास्त्र, सिद्धांत, सब बफर बन जाते हैं। ये बफर न टूटे तो मौत का साक्षात्कार नहीं होता। और जिसने मृत्यु का साक्षात्कार नही किया, वह अभी ठीक अर्थों में मनुष्य नहीं है, वह अभी पशु के तल पर जी रहा है।

– ओशो

[महावीर वाणी  – 17 ]

Till verdict comes, we shall...................................

Wednesday, March 22, 2017

SEEKING HIS GRACE ON THE EVE OF VERDICT.

MANNARGUDI RAJAGOPALASWAMY TEMPLE. PANCHAMUKA HANUMAN VAHANAM.
Marauri Ramar Thirukkolam of SRI RAJAGOPALASWAMY PANGUNI UTHRAM FESTIVAL.
(COURTESY: RANGANATHAN VEDANTHAM.) FROM FACEBOOK.
படம் இதைக் கொண்டிருக்கலாம்: ஒன்று அல்லது அதற்கு மேற்பட்ட நபர்கள்

Pensioners have a right.


I just received this email.
The sender of the email is a pensioner and likely a member of Federation.
He asserts that Pensioners do have a right. 
I searched for the right.
He was right indeed.

Yes.
Pensioners have a right to 
PEACE OF MIND.
...Editor.
***********************************************************

Now read the email: 

Dear Editor,


° Before the DHC Verdict"
While  welcoming the call for unity posted by Mr. Sachdeva and other like-minded friends,  I should ask when was any disunity noticed among the counsels throughout  the Court proceedings? A few instances of disagreement over modus operandi between petitioners have been blown out of proportion by a section of people to serve their own ends. 
In the name of 'being prepared' one association has literally gone to town, touring districts so to say, ostensibly to interact with pensioners but mainly to collect funds (nothing wrong with that of course, everybody needs funds) and in the process claim credit for whatever positive things that have happened so far, going by the series of posts unleashed in all the blogs titled 'while waiting for the Verdict' .
There is time enough to discuss strategy after the verdict comes, depending of course on the nature of the verdict. 
The  other petitioners have taken the right attitude like "we shall cross the bridge when we come to it". 
One  petitioner, AIIPA, has at least been doing something constructive by meeting LIC officials on matters of importance to pensioners other than court issues.
 Pensioners have a right to some peace of mind in the interregnum.
Regards.
G.Krishna Prasad

*****************************************************************

The Editor has just forwarded the letter to G.N.Sridharan.
who will respond if need be.

Sri Ramadasu | HD ll Akkineni Nageswara Rao, Akkineni Nagarjuna, Suman,...

Tuesday, March 21, 2017

A QUERY FROM SHRI P.RAMANATHAN AND GNS RESPONSE.

Thank U Shri P.Ramanathan.
Your observation is taken note of and
GNS answers:

This circular is primarily for CHENNAI MEMBERS OF OUR ASSOCIATION.


******************************************************************
  Arising out of our friend Shri P Ramanathan's query through your blog I would like to convey the following to all members of chennai Association.

1) Any member wanting to contribute by way of donation may send their cheques to any of the following office bearers whose E mail IDs and mobile nos are furnished below.


a.GNSridharan (pres)
oppilisri@gmail.com   9841072951

b. M Arunachalam (VP)
arunachalam.m9@gmail.com 9840869758

c.D Krishnan (VP)
dkrishnan1@gmail.com 9176635967.

d. PA Sivakumaran (Secy)
pasivakumaran@gmail.com 9444079062.

e.Mrs Sathi Thomas (jt.Secy) 9444382439


f. VR krishnan (jt.Secy)
vrkrishnan46@gmail.com 9840932943

g. TN krishnamurthy (Treasurer) 9841221211



2) We have undertaken the work of updating our members directory.Any change in address Tel. No. Etc may please be intimated to our jt. Secy. Shri VR Krishnan so as to reach him before 31/3/2017.

THOSE WHO HAVE EMAIL FACILITY MAY ALSO FURNISH THEIR ID



3) we appeal to all members to introduce new members as our membership strength (like our pension!!)has remained static for quite sometime.

4) As already intimated our AGM will be held positively in the first half of May 2017when hopefully the 2017 edition of our Directory will also be released

With Greetings to all -

GN Sridharan.

please note:


THOSE WHO HAVE EMAIL FACILITY MAY ALSO FURNISH THEIR ID

G N S

Monday, March 20, 2017

1997 is an Important Mark in the History of Pensisoners. Here also....

Yes. In the year 1997 the historic film TITANIC . Music was by James Horner. 

 LISTEN TO THE HINDI VERSION HERE 

 WHILE WE WAIT WITH BATED BREADTH 

OF COURSE 

FOR  THE DELHI JUDGEMENT.





 RELAX PLEASE. !!!1

Friday, March 17, 2017

G N S speaks

We had appealed to all pensioners to relax till the much awaited Delhi HC judgement is out. It looks that at least one section of pensioners comprised in the activists of our federation seem to believe that there can be no period of hibernation for us!! I say so because we have received such a lot of very useful suggestions from some of them on what we should be doing now. Based on them we would like to inform all concerned as follows.

1. As any other petitioner(s) we have reasons to anticipate that most of the reliefs we had prayed for will be granted. Our optimism stems from the fact that we were one of the earliest parties to have raised our voice in the judiciary against the discriminatory and draconian rules relied upon by LIC/Govt combine for denying the pensioners of their legitimate dues. The fact that by the historical order dt 31/3/2016 we could get the Interim relief adds strength and logic to our expectations. We, at the same time, realise that at the moment we cannot predict what exactly would come about. We have therefore decided that a meeting of office bearers and legal committee members will be convened immediately after the verdict is delivered by the Delhi HC.

2. A very strong suggestion has been made that we should draw up a road map for our organisational expansion in unrepresented areas.  The need for this has now become more than ever as we would naturally like that no retired officer anywhere in the country  to be misled by other quarters masquerading as the champions of retired Class I Officers .The fact is that for over a decade now we have, by our dedication to their cause, been recognised as the only representative body for them.  We had at length discussed this matter at the national EC meeting held at Thrissur in November last and I am seriously in interaction with our office bearers across the country about acting on our already chalked out programme on this score.

3. Both before and after the Delhi Judgement I have plans to visit a few centres including Hyderabad for meeting retired officers.

4) It is hoped and expected by us that all the benefits will flow but we cannot predict the final shape of the verdict.  At any rate, there could be bureaucratic delay and Governmental policy roadblocks handicapping LIC’s implementation. A good deal of liaison work such as meeting with top management, interaction at ministerial level, and possibly certain diplomatic steps, will be the need of the hour

5) Details on this will be intimated in due course.  Meanwhile, we are keeping all options open and will look to suggestions from units as well as individual members.

With Greetings, 
GN Sridharan Gen. Secy .Fedn of Retd.LIC Class I Officers' Associations

When ?

The Delhi HC's judgement can be reasonably 

expected to be delivered only around 20th of 

this month. 

From GNS circular 

Wednesday, March 8, 2017

E circular from G N S

We  trust that all our affiliated units would have brought to the attention of all their members our written circular dated 1/3/2017wherein the stand taken by LIC in the Delhi HC and how we had countered them had been detailed. We also We expressed that the Delhi HC's judgement can be reasonably expected to be delivered only around 20 th of this month. 

                  We are surprised that the rumour mill has started working to arouse the anxiety of pensioners.I recd.two calls today ,one from the north and another from the south seeking confirmation on the rumour floated by somebody that the judgement was pronounced yesterday.

We would therefore like to appeal to  all our members to be patient and await prompt and authentic information from us as soon as the judgement is out. We learn that 12/3 to 19/3 will be holidays on account of Holi festival and courts will not be functioning at Delhi during that period . It  therefore appears that we can expect the court verdict only after 20th as already guessed by us.

                   We may also inform that our federation has filed our Written arguments within  the court mandated period for the purpose. 
                   With Greetings,


 GNSridharan

 Gen.Secy Federation of Retd. LIC class 1 officers' Associations.